Credit Card का बिल नहीं भर पाने पर बैंक नहीं कर पाएंगे आपको परेशान, जानें ग्राहक के अधिकार

[ad_1]

एक समय था जब पहले सैलरी मिलती थी उसके बाद उसे लोग खर्च करने का प्लान बनाते थे. लेकिन, बदलते समय के साथ अब सब कुछ बदल गया है. अब बैंकों ने लोगों की सुविधा के लिए क्रेडिट कार्ड की फैसिलिटी शुरू कर दी है. इसमें लोग पैसे पहले खर्च करते हैं और उसके बाद बिल आता है. पिछले कुछ सालों में क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल बहुत तेजी से बढ़ा है. कई कंपनियां क्रेडिट कार्ड से शॉपिंग करने पर कई तरह के शानदार ऑफर्स भी देती है जिससे आपकी जबरदस्त सेविंग हो सकती है. लेकिन, इस सभी चीजों के साथ इस बात का ख्याल रखना बहुत जरूरी है कि क्रेडिट कार्ड बिना सोचे समझे इस्तेमाल करना आपको बड़ी परेशानी में डाल सकता है.

कई बार लोग क्रेडिट कार्ड से इतनी ज्यादा शॉपिंग कर लेते हैं कि बाद में वह उसका बिल नहीं चुका पाते हैं. ऐसे में वह क्रेडिट कार्ड के कर्ज के जाल में फंस जाते हैं. बिल न चुका पाने की स्थिति में बैंक भी कर्जदार को परेशान करने लगते हैं. लेकिन, हम आपको बता दें कि नियमों के अनुसार बैंक किसी ग्राहक को बिल देने के लिए परेशान नहीं कर सकता है. इस संबंध में ग्राहक के कुछ अधिकार होते हैं. तो चलिए हम आपको इस संबंध में ग्राहकों के अधिकार के बारे में जानकारी देते हैं-  

बैंक ग्राहक से जबरदस्ती नहीं वसूल सकते बिल
आपको बता दें कि अगर कोई ग्राहक किसी भी कारण से क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं चुका पा रहा है तो बैंक उससे जबरदस्ती बिल नहीं वसूल सकता है. ऐसी स्थिति में बैंक ग्राहक से जुर्माना जरूर वसूल सकता है जिससे उसे क्रेडिट स्कोर पर बुरा प्रभाव पड़ेगा. इसके साथ ही बैंक ग्राहक को किसी तरह की धमकी भी नहीं दे सकता है.  

घर पर किसी तरह की जबरदस्ती रिकवरी एजेंट्स नहीं कर सकते हैं
कई बार फाइनेंशियल कंपनी या बैंक ग्राहक से क्रेडिट कार्ड के पैसे रिकवर करने के लिए एजेंट्स उनके घर भेज देते हैं. ऐसी स्थिति में रिकवरी एजेंट ग्राहक के घर पर गलत तरीके से व्यवहार करते हैं. आरबीआई के नियमों के मुताबिक ग्राहक के साथ पैसे रिकवरी के लिए रिकवरी एजेंट्स इस तरह का व्यवहार नहीं कर सकते हैं. बैंक आपको नोटिस भेज सकता है.

फ्रॉड होने पर बैंक करेगा आपकी मदद
अगर आपके साथ किसी तरह की धोखाधड़ी होती है तो ऐसी स्थिति में आप जल्द से जल्द बैंक या उस कंपनी से संपर्क करें जिससे अपने क्रेडिट कार्ड खरीदा है. इसके बाद कंपनी या बैंक आपकी ऐसे मामलों में पूरी मदद करेगा. इसके साथ साथ ही यह आपका अधिकार है कि कार्ड खरीदते समय आप किस कार्ड का चुनाव करते हैं. बैंक या कंपनी क्रेडिट कार्ड खरीदने के लिए आप पर किसी तरह का दबाव नहीं बना सकता है.

ये भी पढ़ें-

अस्पताल में भर्ती होने के बाद भी हेल्थ इंश्योरेंस क्लेम मिलने में हो रही है परेशानी, ये हो सकता है कारण

यूपी, बिहार के यात्रियों को बड़ी राहत! रेलवे ने इन रूट्स पर शुरू की होली स्पेशल ट्रेनें

[ad_2]

Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.