एलपीजी सिलेंडर बुकिंग की प्रक्रिया को बनाया गया आसान, अब केवल आवाज से हो सकेगी बुकिंग

[ad_1]

भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड  (BPCL) ने अपने ग्राहकों के लिए गैस सिलेंडर बुकिंग की प्रक्रिया को बहुत आसान बना दिया है. अब आपको गैस बुकिंग कराने के लिए मोबाइल फोन में इंटरनेट की सुविधा की जरूरत नहीं पड़ेगी. अब केवल ग्राहक आपनी आवाज से ही एलपीजी सिलेंडर की बुकिंग कर सकेंगे. यह सुविधा उन लोगों के लिए गेम चेंजर साबित होगी जो लोग गांव के दूर दराज इलाकों में रहते हैं और जिनके पास स्मार्टफोन और इंटरनेट की सुविधा नहीं हैं.

BPCL बिना इंटरनेट की सुविधा के भी कर सकेंगे गैस बुकिंग
गौरतलब है, कि अब भारत पेट्रोलियम के ग्राहक सिलेंडर बुकिंग के लिए ‘UPI123PAY’ का इस्तेमाल कर गैस बुकिंग पर डिजिटल पेमेंट कर सकते हैं और केवल आपनी आवाज से गैस सिलेंडर की बुकिंग करा सकेंगे. कंपनी द्वारा एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि इस सुविधा को शुरू करने के बाद गांव में रहने वाले 4 करोड़ से अधिक BPCL ग्राहकों को इस योजना का लाभ मिलेगा.

RBI ने फीचर फोन के लिए शुरू की UPI123PAY सुविधा
आपको बता दें कि पिछले हफ्ते ही केंद्रीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने देश भर में UPI123PAY डिजिटल पेमेंट सुविधा की शुरुआत की थी. इस पेमेंट मोड के शुरुआत के बाद से देश के 40 करोड़ फीचर फोन यूजर्स भी अब डिजिटल मोड ऑफ मेपेंट से जुड़ गए हैं. इस डिजिटल पेमेंट सुविधा की शुरुआत के बाद से BPCL पहली कंपनी है जिसमें UPI123PAY के साथ टाईअप किया है. इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए ग्राहक 080-4516-3554 पर कॉल करके अपने गैस सिलेंडर की बुकिंग करा सकते हैं.

इसके अलावा आप इस नंबर के जरिए पैसों का पेमेंट भी कर सकते हैं. इसके साथ ही RBI ने UPI123PAY के साथ 24*7 हेल्पलाइन डिजिसाथी को भी लॉन्च किया है जिसकी मदद से लोग जब चाहें  डिजिटल पेमेंट में हो रही असुविधा की जांच कर मदद प्राप्त कर सकते हैं. इस सुविधा के लॉन्च होने के बाद से अब तक ग्राहकों ने 1 करोड़ की लेन देन कर ली है. कुछ ही दिनों में यह संख्या 100 करोड़ पार कर जाने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें-

गोल्ड ज्वेलरी की हॉलमार्किंग सेंटर से इस तरह कराएं जांच, ये है आसान तरीका

31 मार्च से पहले जरूर कर लें ये काम, वित्त वर्ष खत्म होने के बाद टैक्सपेयर्स को हो सकती है दिक्कत

[ad_2]

Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.